Rajasthan GK

राजस्थान में संभागीय व्यवस्था | Divisional System in Rajasthan

Divisional system in Rajasthan

 

राजस्थान में संभागीय व्यवस्था का इतिहास :-
  प्रशासनिक विकेंद्रीकरण के तहत राजस्थान में सर्वप्रथम संभागीय व्यवस्था की शुरूआत 30 मार्च 1949 में हीरालाल शास्त्री सरकार द्वारा की गई।

इस समय राज्य में 25 जिलों को संगठित कर  पांच संभाग बनाये गये थे।

i.जयपुर    ii. जोधपुर    iii. उदयपुर      iv. कोटा      v. बीकानेर

अप्रैल, 1962 में मोहनलाल सुखाडि़या सरकार के द्वारा संभागीय व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया।

26 जनवरी, 1987 में हरि देव जोशी सरकार के द्वारा संभागीय व्यवस्था की शुरूआत दुबारा की गई। तथा 1987 में जयपुर संभाग से अलग होकर नया संभाग राजस्थान का छठा संभाग अजमेर को बनाया गया।

  4 जुन, 2005 को वसुंधरा सरकार द्वारा राजस्थान का 7 वां संभाग भरतपुर को बनाया गया

राजस्थान के वर्तमान में कुल 7 संभाग हैं जो कि निम्नलिखित हैं

 

  1. जयपुर संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल – 36,615 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या – 1,67,49,144
  • शामिल जिले – 5
  • अलवर, जयपुर, सीकर, दौसा, झुंझुनू
  • सर्वाधिक जनसंख्या वाला संभाग
  • सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला संभाग
  • सर्वाधिक साक्षरता दर वाला संभाग
  • जयपुर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – जयपुर
  • जयपुर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – दौसा
  • जयपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – जयपुर जिला
  • जयपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – दौसा  

 

2. बीकानेर संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल – 64,708 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या –  81,47,344
  • शामिल जिले – 4
  • बीकानेर , गंगानगर, हनुमानगढ, चुरू
  • सबसे कम नदियों वाला संभाग
  • सर्वाधिक अनुसूचित जाति अनुपात वाला संभाग 
  • सर्वाधिक नहरों द्वारा सिंचित भूमि वाला संभाग 
  • न्यूनतम खनिज और वन सम्पदा वाला संभाग 
  • अंतर्राष्ट्रीय सीमा के सर्वाधिक निकट मुख्यालय वालासंभाग
  • बीकानेर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – बीकानेर
  • बीकानेर संभाग मे क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – हनुमानगढ
  • बीकानेर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – बीकानेर
  • बीकानेर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – हनुमानगढ
  • बीकानेर व चूरू दो ऐसे जिले है जिनसे कोई भी नदी प्रवाहित नहीं होती है ।

 

3. जोधपुर संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल – 1,17,801 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या –  1,18,63,484
  • शामिल जिले – 6
  • जोधपुर, जैसलमेर, बाडमेर, जालौर, सिरोही, पाली 
  • सर्वाधिक क्षेत्रफल वाला संभाग 
  • सर्वाधिक पशुधन वाला संभाग 
  • न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला संभाग 
  • सबसे कम साक्षरता वाला संभाग (59.57%)
  • सर्वाधिक जनसंख्या वृद्धि वाला संभाग 
  • सबसे कम आद्रता वाला संभाग 
  • सबले कम वर्षा वाला संभाग 
  • सर्वाधिक शुष्क व बंजर भूमि वाला संभाग
  • जोधपुर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – जैसलमेर
  • जोधपुर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – सिरोही
  • जोधपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – जोधपुर
  • जोधपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – जैसलमेर 

 

4. उदयपुर संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल –  36,942 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या –  98,23,240
  • शामिल जिले – 6
  • उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ, चित्तोड़गढ़, राजसमन्द
  • सर्वाधिक नदियों के उद्गम वाला जिला 
  • सर्वाधिक लिंगानुपात वाला संभाग
  • सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति अनुपात वाला संभाग
  • सर्वाधिक अन्तर्राज्यीय सीमा वाला संभाग
  • उदयपुर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – उदयपुर
  • उदयपुर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे  छोटा जिला – डूंगरपुर
  • उदयपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – उदयपुर
  • उदयपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – प्रतापगढ

 

 

5. कोटा संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल –  24,204 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या –  56,95,804
  • शामिल जिले – 4
  • झालावाड, बाँरा, कोटा, बूंदी
  • सर्वाधिक नदियों वाला संभाग
  • न्यूनतम जनसंख्या वाला संभाग
  • सर्वाधिक वर्षा वाला संभाग
  • सर्वाधिक आर्दता वाला संभाग 
  • कोटा संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – बांरा
  • कोटा संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – कोटा
  • कोटा संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – कोटा
  • कोटा संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से छोटा जिला – बूंदी

 

6. अजमेर संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल –  43,848 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या –  97,20,644
  • शामिल जिले – 4
  • अजमेर, नागौर, भीलवाड़ा, टोंक
  • राज्य का मध्यवर्ती / केन्द्रीयसंभाग
  • राज्य के सभी 6 संभागों की सीमा को स्पर्श करने वाला संभाग
  • अजमेर के अलावा सभी 6 संभाग 3-3 संभागों की सीमा बनाते है
  • न्यूनतम अन्तर्राज्यीय सीमा वाला संभाग
  • अजमेर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – नागौर जिला
  • अजमेर संभाग में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – टोंक जिला
  • अजमेर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – नागौर
  • अजमेर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – टोंक

 

7. भरतपुर संभाग

महत्वपूर्ण बिंदु – 

  • क्षेत्रफल –  18,186 वर्ग किमी.
  • जनसंख्या –  68,45,777
  • शामिल जिले – 4
  • भरतपुर, सवाई माधोपुर, करौली, धौलपुर
  • राज्य का नवीनतम संभाग
  • 4 जून 2005 को वसुंधरा राजे सिंधिया सरकार में भरतपुर सातवाँ संभाग बना
  • भरतपुरसंभागदो संभागों से  अलग होकर नयासंभागबना 

जयपुरसंभाग- इससे भरतपुर व धौलपुर जिले लिए गए ।

कोटासंभाग-  इससे सवाई माधोपुर व करौली जिले लिए गए

  • राजस्थान का क्षेत्रफल की दृष्टि से छोटा संभाग
  • न्यूनतम लिंगानुपात वाला संभाग 
  • सर्वाधिक तीन राज्यों की सीमा बनाने वाला संभाग भरतपुर

भरतपुर के साथ हरियाणा, उत्तरप्रदेश व मध्यप्रदेश की सीमा लगती है ।

  • भरतपुर संभाग मे क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – करौली
  • भरतपुर संभाग मे क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – धौलपुर
  • भरतपुर संभाग में जनसख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला – भरतपुर
  • भरतपुर संभाग में जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा जिला – धौलपुर जिला

 

 संभागों से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

 

अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाले संभाग

  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाले संभाग – बीकानेर, जोधपुर
  • सर्वाधिक अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग जोधपुर ।
  • न्यूनतम अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग बीकानेर ।
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के नजदीक सम्भागीय मुख्यालय-बीकानेर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के दूर सम्भागीय मुख्यालय – जोधपुर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल मे बडा संभाग जोधपुर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग बीकानेर । 

 

अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाले संभाग

  • अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाले सम्भागों की संख्या – 6
  • सर्वाधिक अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग – उदयपुर
  • न्यूनतम अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग – अजमेर ।
  • अन्तर्राज्यीय सीमा के नजदीक सम्भागीय मुख्यालय – भरतपुर ।
  • अन्तर्राज्यीय सीमा के दूर सम्भागीय मुख्यालय –  जोधपुर ।
  • अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में बडा संभाग – जोधपुर ।
  • अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग –  भरतपुर
  • दो बार अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग – उदयपुर

 

  • 6 जिलो वाले संभाग –  उदयपुर व जोधपुर
  • 5 जिलों वाला संभाग –  जयपुर
  • 4 जिलों वाले संभाग – बीकानेर, कोटा, अजमेर व भरतपुर
  • राजस्थान के ऐसे संभाग जो दो भागों में विभाजित है – 2 – अजमेर व उदयपुर
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा संभाग – जोधपुर
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा संभाग – भरतपुर
  • जनसँख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा संभाग – जयपुर
  • जनसँख्या की दृष्टि से सबसे छोटा संभाग – जोधपुर
  • सबसे ज्यादा जिलों वाला संभाग – जोधपुर, उदयपुर
  • सर्वाधिक नदियों वाला संभाग – कोटा
  • सबसे कम नदियों संभाग- बीकानेर
  • सर्वाधिक साक्षर संभाग – जयपुर
  • सभी संभागों को सीमा को छूने वाला संभाग – अजमेर
  • अन्तर्राष्ट्रीय सीमा को छूने वाले संभाग – जोधपुर व बीकानेर
  • ना तो अंतर्राष्ट्रीय ना ही अन्तर्राज्यीय सीमा को छूने वाला संभाग – अजमेर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *